#silent

231 posts
  • poetishq 1d

    " तमाशा "

    अस्पताल में मरते हैं बच्चे

    ये किसकी ज़िम्मेदारी है

    जम्हूरियत एक तमाशा है

    तमाशा अब तक जारी है

    * Aspataal Me Marte Hain Bachche

    Ye Kiski Zimmedaari Hai

    Jamhuriyat Ek Tamaashaa Hai

    Tamaashaa Ab Tak Jaari Hai *

    - हिमांशु
    ©poetishq

  • poetishq 1d

    So Rahaa Hai Ye Mulq Isko Jagaanaa Chaahiye
    Saari Dushmani Ko Ab To Mitaanaa Chahiye

    Ab Kisi Ghar Me Bhi Bhookhaa Na So Paaye Koi
    Padosiyon Ka Farz Sabko Nibhaanaa Chaahiye

    Jo Sochte Hain Nafraton Se Jeet Jaayen Kursiyaan
    De Ke Dhakkaa Shaitaanon Ko Neeche Giraanaa Chaahiye

    Bahak Gaye Hain Kuch Log Aakar Farebi Baaton Me
    Behtar Hai Ki Unko Haqeeqat Dikhaanaa Chaahiye

    Chheen Kar Aaj Ye Hathiyaar Bachhon Ke Haath Se
    Kitaaben Thamaa Ke Unko School Pahunchaanaa Chaahiye

    Baat Nafraton Ki Karnaa Bhi Ab Yahaan Gunaah Ho
    Kuch Is Tarah Mulq Me Muhabbat Failaanaa Chaahiye

    Khafaa Ho Jo Chale Gaye Apne Gharon Ko Chhodkar
    Parindon Ko Waapas Hi Ghonslon Me Bulaanaa Chaahiye

    Chaahe Hindu Rahe, Muslim Rahe Yaa Koi Bhi Jaat Ho
    Bhookh Jab Lagti Hai To Sabko Nivaalaa Chaahiye

    Jo Ban Gaye Hain Dahshatgard Khudaa Ki Raah Chhodkar
    Sachchaa Mazhab Hai Kyaa Unko Samjhaanaa Chaahiye

    Dushman Taiyaar Hai Aaj Hamko Mitaane Ke Vaaste
    Hokar Ek Hind Ab Dushman Ko Mitaanaa Chaahiye

    Jab Koi Hai Poochhta Hamse Hamaaraa Mazhab Yahaan
    Cheer Ke Dil Usko Tirangaa Dikhaanaa Chaahiye

    - Himanshu





    #desh #home #goodmorning #morning #motherland #silent #angry #relations #shayari #shayar #sher #ghazal #gazal #kavita #poetry #poem #reality #hindi #urdu #poets #poet #writers #writer #love #pyar #ishq #mohabbat #india #indian #hindustan #hindustani #dil #heart #story #pod #mirakee #Himanshu @writersnetwork @readwriteunite @hindiwriters @hindipoetry @hindipoems @hindiurduwriters @urduwriters

    Read More

    "मुल्क़"

    सो रहा है ये मुल्क इसको जगाना चाहिए
    सारी दुश्मनी को अब तो मिटाना चाहिए

    अब किसी घर में भी भूखा न सो पाये कोई
    पड़ोसियों का फ़र्ज़ सबको निभाना चाहिए

    जो सोचते हैं नफरतों से जीत जाएँ कुर्सियां
    दे के धक्का शैतानों को नीचे गिराना चाहिए

    बहक गए कुछ लोग आकर फरेबी बातों में
    बेहतर है कि उनको हक़ीक़त दिखाना चाहिए

    छीन कर आज ये हथियार बच्चों के हाथ से
    किताबें थमा के उनको स्कूल पहुँचाना चाहिए

    बात नफरतों की करना भी अब यहाँ गुनाह हो
    कुछ इस तरह मुल्क में मुहब्बत फैलाना चाहिए

    खफा हो जो चले गए अपने घरों को छोड़कर
    परिंदों को वापस ही घोंसलों में बुलाना चाहिए

    चाहे हिन्दू रहे मुस्लिम रहे या कोई भी जात हो
    भूख जब लगती है तो सबको निवाला चाहिए

    जो बन गए दहशतगर्द खुदा की राह छोड़कर
    सच्चा मजहब है क्या उनको समझाना चाहिए

    दुश्मन तैयार है आज हमको मिटाने के वास्ते
    होकर एक हिन्द अब दुश्मन को मिटाना चाहिए

    जब कोई है पूछता हमसे हमारा मजहब यहाँ
    चीर कर के दिल उसको तिरंगा दिखाना चाहिए

     - हिमांशु
    ©poetishq

  • poetishq 1d

    जो लोग विदेशों में रहते हैं और हर वक़्त अपने घर को याद करते हैं। उनकी ही यादों को समेटे ये गीत उनके दर्द को बयां करता हुआ।

    " Chal Sajnaa Ve "

    Chal Sajnaa Ve Ham Vatnaa Ve
    Apne Ghar Me Chaand Hai Niklaa
    Pardes Me Soonaa Aasmaan Re
    Chal Sajnaa Ve Ham Vatnaa Ve

    Bachpan Ke Wo Khel Khilaune
    Yaad Aane Par Lagte Hain Rone
    Maan Ke Haath Ki Wo Ik Roti
    Shikaayat Karti Bahan Chhoti
    Mitti Ke Jo Ghar The Banaaye
    Aaj Wo Phir Se Hamko Bulaaye
    Gudde Gudiyon Ki Zindagaani
    Kitni Lagti Thi Wo Suhaani
    Daadi Phir Se Sunaaye Kahaani
    Ek Thaa Raajaa Ek Thi Raani
    Sapno Se Sajaayaa Jahaan Re
    Chal Sajnaa Ve Ham Vatnaa Ve
    Apne Ghar Me Chaand Hai Niklaa
    Pardes Me Soonaa Aasmaan Re


    Saawan Ke Jhoole Yaad Hain Aaye
    Gangaa Kinaare Phir Se Bulaayen
    Mandir Maszid Aur Gurudwaare
    Jaakar Eid Diwaali Manaayen
    Raah Take Hai Ab Maan Bechaari
    Baabaa Ko Bhi Ghere Hai Beemaari
    Ghar Ki Deewaaren Bhi Tut Rahi Hain
    Kab Aaoge Ab Puchh Rahi Hain
    Apno Se Jo Ham Door Hue The
    Jaane Kyon Yun Majboor Hue The
    Chalo Ab Yaaron Des Mahaan Re
    Chal Sajnaa Ve Ham Vatnaa Ve
    Apne Ghar Me Chaand Hai Niklaa
    Pardes Me Soonaa Aasmaan Re

    - Himanshu

    #pardesh #home #motherland #silent #angry #relations #shayari #shayar #sher #ghazal #gazal #kavita #poetry #poem #reality #hindi #urdu #poets #poet #writers #writer #love #pyar #ishq #mohabbat #india #indian #hindustan #hindustani #dil #heart #story #pod #mirakee #Himanshu @writersnetwork @readwriteunite @hindiwriters @hindipoetry @hindipoems @hindiurduwriters @urduwriters

    Read More

    " चल सजना वे "

    चल सजना वे हम वतना वे
    अपने घर में चाँद है निकला
    परदेस में सूना आसमान रे
    चल सजना वे हम वतना वे

    बचपन के वो खेल खिलौने
    याद आने पर लगते हैं रोने
    माँ के हाथ की वो इक रोटी
    शिकायत करती बहन छोटी
    मिट्टी के जो घर थे बनाये
    आज वो फिर से हमें बुलाये
    गुड्डे गुड़ियों की ज़िन्दगानी
    कितनी लगती थी वो सुहानी
    दादी फिर से सुनाए कहानी
    एक था राजा एक थी रानी
    सपनों से सजाया जहान रे
    चल सजना वे हम वतना वे
    अपने घर में चाँद है निकला
    परदेस में सूना आसमान रे

    सावन के झूले याद हैं आये
    गंगा किनारे फिर से बुलाएँ
    मंदिर मस्जिद और गुरूद्वारे
    जाकर ईद दिवाली मनाएं
    राह तके है अब माँ बेचारी
    बाबा को भी घेरे है बीमारी
    घर की दीवारें भी टूट रहीं हैं
    कब आओगे अब पूछ रही हैं
    अपनों से जो हम दूर हुए थे
    जाने क्यों यूँ मजबूर हुए थे
    चलो अब यारों देस महान रे
    चल सजना वे हम वतना वे
    अपने घर में चाँद है निकला
    परदेस में सूना आसमान रे

    - हिमांशु
    ©poetishq

  • poetishq 1d

    एक और दिन

    ज़िन्दगी के बिन

    * Ek Aur Din

    Zindagi Ke Bin *

    - हिमांशु
    ©poetishq

  • poetishq 2d

    " तमाशा "

    गरीबों से तो ख़िलाफ़त है

    अमीरों की तरफदारी है

    जम्हूरियत एक तमाशा है

    तमाशा अब तक जारी है

    * Gareebon Se To Khilaafat Hai

    Ameeron Ki Tarafdaari Hai

    Jamhooriyat Ek Tamaashaa Hai

    Tamaashaa Ab Tak Jaari Hai *

    - हिमांशु
    ©poetishq

  • poetishq 2d

    " Mazhab "

    Chaand Jo Nabh Me Ugtaa Hai
    Kyaa Uskaa Mazhab Hotaa Hai
    Phool Chaman Me Khiltaa Hai
    Kyaa Uskaa Mazhab Hotaa Hai

    Aakash Me Jo Udte Phirte Hain
    Rang Birange Se Ye Panchhi
    Unko Rok Sake Sarhad Koi
    Aisi To Nahin Dikhti
    Baadal Bhi Aakar Baarish Me
    Saari Duniyaa Bhigotaa Hai
    Mujhko Koi To Ye Samjhaa Do
    Kyaa Inkaa Mazhab Hotaa Hai
    Chaand Jo Nabh Me Ugtaa Hai
    Kyaa Uskaa Mazhab Hotaa Hai

    Talwaar Bandooken Lahoo Me Aksar
    Log Jo Aakar Dhote Hain
    Nafrat Ke Beej Yahaan Par log
    Na Jaane kyun Bote Hain
    Bhookh Jab Lagti Hai Zoron Se
    To Har Ik Bachcha Rotaa Hai
    Kyaa Koi Usko Batlaayegaa
    Kyaa Uskaa Mazhab Hotaa Hai
    Chaand Jo Nabh Me Ugtaa Hai
    Kyaa Uskaa Mazhab Hotaa Hai

    Shaanti Ki Hai Kutiyaa Paavan
    Nafrat Waali Meenaaron Se
    Raajpaath Haank Rahe Hain Netaa
    Roj Naye Hathiyaaron Se
    Dharm Ke Naam Log Qatl Ho Rahe
    Dekh Allaah Ishwar Rotaa Hai
    Koi Ab To Ye Batlaa Do
    Kyaa Prem Kaa Mazhab Hotaa Hai
    Chaand Jo Nabh Me Ugtaa Hai
    Kyaa Uskaa Mazhab Hotaa Hai



    - Himanshu


    #mazhab #religion #silent #politics #goodmorning #morning #good #political #angry #relations #shayari #shayar #sher #ghazal #gazal #kavita #poetry #poem #reality #hindi #urdu #poets #poet #writers #writer #love #pyar #ishq #mohabbat #india #indian #hindustan #hindustani #dil #heart #story #pod #mirakee #Himanshu @writersnetwork @readwriteunite @hindiwriters @hindipoetry @hindipoems @hindiurduwriters @urduwriters

    Read More

    " मज़हब"

    चाँद जो नभ में उगता है
    क्या उसका मजहब होता है
    फूल चमन में खिलता है
    क्या उसका मजहब होता है

    आकाश में जो उड़ते फिरते हैं
    रंग बिरंगे से ये पंछी
    उनको रोक सके सरहद कोई
    ऐसी तो नहीं दिखती
    बादल भी आकर बारिश में
    सारी दुनिया भिगोता है
    मुझको कोई तो ये समझा दो
    क्या इनका मजहब होता है
    चाँद जो नभ में उगता है
    क्या उसका मजहब होता है

    तलवार बंदूकें लहू में अक्सर
    लोग जो आकर धोते हैं
    नफरत के बीज यहाँ पर लोग
    न जाने क्यों बोते हैं
    भूख जब लगती है ज़ोरों से
    तो हर एक बच्चा रोता है
    क्या कोई उसको बतलायेगा
    क्या उसका मजहब होता है
    चाँद जो नभ में उगता है
    क्या उसका मजहब होता है

    शांति की है कुटिया पावन
    नफरत वाली मीनारों से
    राजपाठ हाँक रहे हैं नेता
    रोज नए हथियारों से
    धर्म के नाम लोग क़त्ल हो रहे
    देख अल्लाह ईश्वर रोता है
    कोई अब तो ये बतला दो
    क्या प्रेम का मजहब होता है
    चाँद जो नभ में उगता है
    क्या उसका मजहब होता है

    - हिमांशु
    ©poetishq

  • letswrite000 2d

    Silent emotions

    No one notices
    My silent tears
    No one notices
    My silent cries of anguish
    No one notices
    My silent voice and feelings
    When the world finally becomes silent
    My emotions burst through my body
    Which is but a vessel,which has failed in its duty
    Of containing those strained emotions
    Which became too loud that it was unbearable to hear any longer.
    ©letswrite000

  • poetishq 3d

    Chup Raho Ye Sarkaari Farmaan Hai
    Gar Bole To Raashtra Ka Apmaan Hai

    Tod Denge Wo Ik Ik Kalam Ko
    Jo Likhti Aaj Swaabhimaan Hai

    Akhbaaron Me Tareef Hi Likhnaa
    Jo Kuch Hai Wo Jhoothaa Sammaan Hai

    Satya Kaa Daur To Guzar Gayaa
    Aaj To Asatya Badaa Mahaan Hai

    Koi Basaataa Hai Kabristaan Yahaan
    To Kisi Ko Chaahiye Shamshaan Hai

    Achchhaai Ki Ab Keemat Kyaa Hai
    Unko Qaatil Hone Kaa Gumaan Hai

    Mazhabon Ki Ladaai Lad Rahe Hain Jo
    Bhool Gaye, Sabse Pahle Samvidhaan Hai

    Kisi Ek Kaa Hi Haq Nahin Hai Is Par
    Jitnaa Teraa Utnaa Meraa Hindustaan Hai

    - Himanshu


    #order #silent #politics #goodmorning #morning #good #political #angry #relations #shayari #shayar #sher #ghazal #gazal #kavita #poetry #poem #reality #hindi #urdu #poets #poet #writers #writer #love #pyar #ishq #mohabbat #india #indian #hindustan #hindustani #dil #heart #story #pod #mirakee #Himanshu @writersnetwork @readwriteunite @hindiwriters @hindipoetry @hindipoems @hindiurduwriters @urduwriters

    Read More

    चुप रहो ये सरकारी फरमान है
    गर बोले तो राष्ट्र का अपमान है

    तोड़ देंगे वो इक इक कलम को
    जो लिखती आज स्वाभिमान है

    अखबारों में तारीफ ही लिखना
    जो कुछ है वो झूठा सम्मान है

    सत्य का दौर तो गुज़र गया है
    आज तो असत्य बड़ा महान है

    कोई बसाता है कब्रिस्तान यहाँ
    तो किसी को चाहिए शमशान है

    अच्छाई की अब कीमत क्या है
    उनको क़ातिल होने का गुमान है

    मज़हबों की लड़ाई लड़ रहे हैं जो
    भूल गए सबसे पहले संविधान है

    किसी एक का ही हक़ नहीं है इस पर
    जितना तेरा उतना मेरा हिंदुस्तान है

    - हिमांशु
    ©poetishq

  • unexpressed_ 1w

    Falling in love takes only a second
    Falling out of it consumes entire life
    Life is hard to live without you
    ©unexpressed_

  • poetishq 1w

    न कोई तलब और न कोई ख़्वाहिश है ज़िन्दगी

    मर मर के जीने की ज़ोर आज़माइश है ज़िन्दगी

    इस क़दर नामुमकिन सी लगा करती है आज

    किसी बच्चे की ज़िद्दी सी फ़रमाइश है ज़िन्दगी

    * Na Koi Talab Aur Na Koi Khwaahish Hai Zindagi

    Mar Mar Ke Jeene Ki Zor Aazmaaish Hai Zindagi

    Is Qadar Naamumkin Si Lagaa Karti Hai Aaj

    Kisi Bachche Ki Ziddi Si Farmaaish Hai Zindagi *

    - हिमांशु
    ©poetishq

  • sanobarmujawar 2w

    After a point i become
    silent.
    Silence speaks,
    when words fail.
    My words don't mean
    anything to you,
    so now i won't utter a word.
    "Surely silence​ sometimes
    be the most eloquent reply".

    ©sanobarmujawar

  • thegirlwhowrites 2w

    5am

    3pm

    12am

    It doesn't matter, I still feel the same.
    ©thegirlwhowrites

  • lexa_angel 2w

    Your mind gets filled by this silent dream
    I know how beautiful that may seem

    But don't lose yourself in this search for life
    When you are stuck with this job from nine to five

    If it is true freedom that you are looking for
    You need to be ready and step out of the door

    It will not come to you without a search
    So just let go and give in to this urge

    Then someday you will be truly free
    Can you imagine how amazing that will be?

    ©lexa_angel

  • shonaali_ 2w

    Silent people
    Once used to talk
    'The most'
    ©shonaali_

  • silent_scream 3w

    मुद्दतों बाद आज कुछ अल्फ़ाज़ समझ आए हैं,
    न जाने कब कहाँ कैसे क्या ये कहने आए हैं,
    आज रोकने की जगह ओलो की तरह बरस से गये हैं
    ये अल्फ़ाज़ नहीं अंगारे नजर आए हैं

    हर तरफ खुशी का माहौल,
    खुद हंसते , दुसरो को हँसाते
    अंदर की मायूसी छुपाते आये हैं,
    अल्फ़ाज़ नहीं,राज़दार हैं ये मेरे,
    जब नहीं होते हैं साथ,
    तो मुझको एक झलक के लिए तरसाते आये हैं,
    ये अल्फ़ाज़ नहीं , चाँद-ए-ईद हैं
    इस मर्तबा एक सच्चाई बतलाने आए हैं ।

    कह रहे हैं , जोर से बोलेंगे तो कहीं प्रलय न आ जाए,
    चीख रहे हैं, कहाँ है वो शबनम की हसीं,
    मचल रहे हैं, उसकी एक अदाएगी के लिए,
    कुछ बोल नहीं पाए हैं, कुछ राज दफना आये हैं,
    अलफाज़ नहीं, बही हैं मेरी ज़िंदगी के,
    खुलने दो, बिखरने दो,
    ओसो की बूंदों को आज पिघलने दो,
    अलफाज़ नहीं , सुनामी हैं,
    आज बह गए तो , कर जाएंगे तबाह सबको,
    पर अलफाज़ हैं,
    शांत रखूंगा कुछ और दिन,
    रह लेंगे, जैसे अब तक रहते आये हैं ।

  • silent_scream 3w

    मुद्दतों बाद आज कुछ अल्फ़ाज़ समझ आए हैं,
    न जाने कब कहाँ कैसे क्या ये कहने आए हैं,
    आज रोकने की जगह ओलो की तरह बरस से गये हैं
    ये अल्फ़ाज़ नहीं अंगारे नजर आए हैं

    हर तरफ खुशी का माहौल,
    खुद हंसते , दुसरो को हँसाते
    अंदर की मायूसी छुपाते आये हैं,
    अल्फ़ाज़ नहीं,राज़दार हैं ये मेरे,
    जब नहीं होते हैं साथ,
    तो मुझको एक झलक के लिए तरसाते आये हैं,
    ये अल्फ़ाज़ नहीं , चाँद-ए-ईद हैं
    इस मर्तबा एक सच्चाई बतलाने आए हैं ।

    कह रहे हैं , जोर से बोलेंगे तो कहीं प्रलय न आ जाए,
    चीख रहे हैं, कहाँ है वो शबनम की हसीं,
    मचल रहे हैं, उसकी एक अदाएगी के लिए,
    कुछ बोल नहीं पाए हैं, कुछ राज दफना आये हैं,
    अलफाज़ नहीं, बही हैं मेरी ज़िंदगी के,
    खुलने दो, बिखरने दो,
    ओसो की बूंदों को आज पिघलने दो,
    अलफाज़ नहीं , सुनामी हैं,
    आज बह गए तो , कर जाएंगे तबाह सबको,
    पर अलफाज़ हैं,
    शांत रखूंगा कुछ और दिन,
    रह लेंगे, जैसे अब तक रहते आये हैं ।

  • silent_scream 3w

    मुद्दतों बाद आज कुछ अल्फ़ाज़ समझ आए हैं,
    न जाने कब कहाँ कैसे क्या ये कहने आए हैं,
    आज रोकने की जगह ओलो की तरह बरस से गये हैं
    ये अल्फ़ाज़ नहीं अंगारे नजर आए हैं

    हर तरफ खुशी का माहौल,
    खुद हंसते , दुसरो को हँसाते
    अंदर की मायूसी छुपाते आये हैं,
    अल्फ़ाज़ नहीं,राज़दार हैं ये मेरे,
    जब नहीं होते हैं साथ,
    तो मुझको एक झलक के लिए तरसाते आये हैं,
    ये अल्फ़ाज़ नहीं , चाँद-ए-ईद हैं
    इस मर्तबा एक सच्चाई बतलाने आए हैं ।

    कह रहे हैं , जोर से बोलेंगे तो कहीं प्रलय न आ जाए,
    चीख रहे हैं, कहाँ है वो शबनम की हसीं,
    मचल रहे हैं, उसकी एक अदाएगी के लिए,
    कुछ बोल नहीं पाए हैं, कुछ राज दफना आये हैं,
    अलफाज़ नहीं, बही हैं मेरी ज़िंदगी के,
    खुलने दो, बिखरने दो,
    ओसो की बूंदों को आज पिघलने दो,
    अलफाज़ नहीं , सुनामी हैं,
    आज बह गए तो , कर जाएंगे तबाह सबको,
    पर अलफाज़ हैं,
    शांत रखूंगा कुछ और दिन,
    रह लेंगे, जैसे अब तक रहते आये हैं ।

  • silent_scream 3w

    मुद्दतों बाद आज कुछ अल्फ़ाज़ समझ आए हैं,
    न जाने कब कहाँ कैसे क्या ये कहने आए हैं,
    आज रोकने की जगह ओलो की तरह बरस से गये हैं
    ये अल्फ़ाज़ नहीं अंगारे नजर आए हैं

    हर तरफ खुशी का माहौल,
    खुद हंसते , दुसरो को हँसाते
    अंदर की मायूसी छुपाते आये हैं,
    अल्फ़ाज़ नहीं,राज़दार हैं ये मेरे,
    जब नहीं होते हैं साथ,
    तो मुझको एक झलक के लिए तरसाते आये हैं,
    ये अल्फ़ाज़ नहीं , चाँद-ए-ईद हैं
    इस मर्तबा एक सच्चाई बतलाने आए हैं ।

    कह रहे हैं , जोर से बोलेंगे तो कहीं प्रलय न आ जाए,
    चीख रहे हैं, कहाँ है वो शबनम की हसीं,
    मचल रहे हैं, उसकी एक अदाएगी के लिए,
    कुछ बोल नहीं पाए हैं, कुछ राज दफना आये हैं,
    अलफाज़ नहीं, बही हैं मेरी ज़िंदगी के,
    खुलने दो, बिखरने दो,
    ओसो की बूंदों को आज पिघलने दो,
    अलफाज़ नहीं , सुनामी हैं,
    आज बह गए तो , कर जाएंगे तबाह सबको,
    पर अलफाज़ हैं,
    शांत रखूंगा कुछ और दिन,
    रह लेंगे, जैसे अब तक रहते आये हैं ।

  • silent_scream 3w

    मुद्दतों बाद आज कुछ अल्फ़ाज़ समझ आए हैं,
    न जाने कब कहाँ कैसे क्या ये कहने आए हैं,
    आज रोकने की जगह ओलो की तरह बरस से गये हैं
    ये अल्फ़ाज़ नहीं अंगारे नजर आए हैं

    हर तरफ खुशी का माहौल,
    खुद हंसते , दुसरो को हँसाते
    अंदर की मायूसी छुपाते आये हैं,
    अल्फ़ाज़ नहीं,राज़दार हैं ये मेरे,
    जब नहीं होते हैं साथ,
    तो मुझको एक झलक के लिए तरसाते आये हैं,
    ये अल्फ़ाज़ नहीं , चाँद-ए-ईद हैं
    इस मर्तबा एक सच्चाई बतलाने आए हैं ।

    कह रहे हैं , जोर से बोलेंगे तो कहीं प्रलय न आ जाए,
    चीख रहे हैं, कहाँ है वो शबनम की हसीं,
    मचल रहे हैं, उसकी एक अदाएगी के लिए,
    कुछ बोल नहीं पाए हैं, कुछ राज दफना आये हैं,
    अलफाज़ नहीं, बही हैं मेरी ज़िंदगी के,
    खुलने दो, बिखरने दो,
    ओसो की बूंदों को आज पिघलने दो,
    अलफाज़ नहीं , सुनामी हैं,
    आज बह गए तो , कर जाएंगे तबाह सबको,
    पर अलफाज़ हैं,
    शांत रखूंगा कुछ और दिन,
    रह लेंगे, जैसे अब तक रहते आये हैं ।

  • silent_scream 3w

    मुद्दतों बाद आज कुछ अल्फ़ाज़ समझ आए हैं,
    न जाने कब कहाँ कैसे क्या ये कहने आए हैं,
    आज रोकने की जगह ओलो की तरह बरस से गये हैं
    ये अल्फ़ाज़ नहीं अंगारे नजर आए हैं

    हर तरफ खुशी का माहौल,
    खुद हंसते , दुसरो को हँसाते
    अंदर की मायूसी छुपाते आये हैं,
    अल्फ़ाज़ नहीं,राज़दार हैं ये मेरे,
    जब नहीं होते हैं साथ,
    तो मुझको एक झलक के लिए तरसाते आये हैं,
    ये अल्फ़ाज़ नहीं , चाँद-ए-ईद हैं
    इस मर्तबा एक सच्चाई बतलाने आए हैं ।

    कह रहे हैं , जोर से बोलेंगे तो कहीं प्रलय न आ जाए,
    चीख रहे हैं, कहाँ है वो शबनम की हसीं,
    मचल रहे हैं, उसकी एक अदाएगी के लिए,
    कुछ बोल नहीं पाए हैं, कुछ राज दफना आये हैं,
    अलफाज़ नहीं, बही हैं मेरी ज़िंदगी के,
    खुलने दो, बिखरने दो,
    ओसो की बूंदों को आज पिघलने दो,
    अलफाज़ नहीं , सुनामी हैं,
    आज बह गए तो , कर जाएंगे तबाह सबको,
    पर अलफाज़ हैं,
    शांत रखूंगा कुछ और दिन,
    रह लेंगे, जैसे अब तक रहते आये हैं ।