• rahulgautam__ 6w

    साज़िश

    छोड़ आया हूँ नींदें अब मैं भी उसी के दर पे,
    कि उसने साज़िश की ख्वाब अपने मेरी पलकों में बसा दिए।।
    ©rahulgautam__