• silver_ag_ankita 15w

    परछाई

    किसको पता था परछाई ही साथ देगी
    मरने के बाद भी शव को आग देगी
    कुदरत का करिश्मा तो देखो
    ज़िन्दगी के हर मोड़ पे नया दाग देगी
    एेसी मंजिल भी देगी जिसपे चलना पड़ेगा
    वो साहिल भी देगी जो किनरा बनेगा
    कुछ यु नज़र आती है ये दस्ता
    की ये अपना परया सब एक साथ देगी
    मुझे चलने को सहरा भी देगी
    आगे बड़ने का इशरा भी देगी
    ये ज़िन्दगी हसीन है
    ये समय समय में खुशिया भी देगी


    ©silver_ag_ankita