• abhishekmanukumar 15w

    कहाँ खो गये साहब! अपनी दूनिया में वापस
    तुमको सुनते सुनते
    मेरे सारे जख़्म अपने आप को कुरेदने लगे थे