• meri_aawara_kalam 5w

    लम्हा

    कुछ हसीन पल
    और उन हसीन लम्हो की हसीन यादें
    मिटाना तो पड़ेगा
    कब तक इस असमंजस मैं खड़े रहेंगें
    चलना तो पड़ेगा
    माना कि मंज़िले बड़ी है और रास्ते छोटे
    पर ख्वाहिशों के कारवां को आगे भड़ाना तो पड़ेगा
    मोहताज़ नही मैं उन शामियानों का जहां आज भी
    हवाएँ इश्क़ का रंग चढ़ा देती है
    जितना भी मिला साथ दो पल का भुलाना तो पडेगा ।

    ©raghav_bitw