• iftekharul_hasan 5w

    #नशाखोरी

    Read More

    तलबगार नही है हम महकने के ऐ ग़ालिब।
    नशा तो सिर्फ शायरो से भरे महफ़िल का है।

    ©iftekharul_hasan