• hemlatakhandalwal555 5w

    माना लड़कियों के कपड़े छोटे पर उम्मीदें तो बड़ी होती है...
    लड़कों से ज्यादा लड़कियों में कुछ कर गुजरने का जुनुन होता है...
    शायद इसलिये लड़की का नाम बदनाम होता है...
    क्यूं जाती है एक लड़की घर के बाहर,
    क्यूं देखती है वो सपने, क्यूं रखती है वो उम्मीदें....
    नाम करने की चाह उस लड़की की....
    वो बदमाश धब्बा लगा जाते हैं लड़की के नाम पर....
    जब होता है घर में बटवारा तो लड़की के हिस्से करते है माँ- बाप...
    जमीं का नाम ले वो भाई को कहती है...
    नहीं चाहिये तुम्हारी ये जायदात का एक हिस्सा....
    बस निभा लो तुम राखी का एक रिश्ता....
    लड़की कभी अपनों में उलझती है...
    कभी सपनों में जलती है...
    फिर वो जीती है...
    जिम्मेदीरियाँ कन्धों पर उठा कर वो चलती है...
    पढ़ाई में लड़की हमेशा टॉप करती है...
    शादी के बाद लड़की नाम देकर घर के एक कोने में बैठा दी जाती है....
    लड़की का वो मासुम सा चेहरा वक्त से पहले झुरियाें से भर जाता है...
    हंसने-खेलने की उम्र में, वो दर्द को सहलाती है...
    बस लड़की का यही कसूर होती है ....
    कि वो एक लड़की होती है....