• junjar_rathore 14w

    मैं ही क्यों

    हर बार मैं ही समझने की कोशिश क्यों करूँ ,
    वैसे तो बहोत समझदार हो तुम ।।
    हर बात मैं ही गलती मान के क्यों बैठूँ ,
    सच में मेरी नफ़रत की हकदार हो तुम ।।
    ©udaas_kalam