• vijay_yogi_thoughts_king 14w

    सफर इश्क़ का

    कैसा सफर हे , ये तेरे इश्क़ का जनाब ......जंहा खुद को भी खो बैठे हम एक ....तुझे ढूढ़ते ढूढ़ते ....विजय योगी
    ©vijayyogi