• vidhi3 14w

    एक वजूद की तरह जो बैठा है ज़हन में मेरे।

    कहाँ आसान है यूँ बारिश से उसका धुल जाना।
    ©vidhi3