• ravinab 24w

    "सपने टुटते कम है छुटते ज्यादा हैं!
    बहुत तेज चलते है सपने।
    इतने तेज की याद नही रहेता की सपना देखा क्युँ था"।
    ©मुसाफिर cafe