• pallaviz 16w

    मेरी छत पे बूंदे गिरी थी आज,
    थोड़ा रुक के, रुक-रुक के बार-बार गिरी,
    शायद कोई बादल भी तन्हा था आज।।।
    ©pallaviz