• shaharshdwivedi 24w

    My beliefs
    #mirakee #firstpoem #hindi #पेहलीकविता

    Read More

    शिकायतें

    तेरी नफरत से नहीं , तेरी मोहब्बत से खफा हूँ मैं ,
    न जाने क्यों अब भी करता हूँ तुझसे वफा मैं ||
    ये कैसी मोहब्बत है तेरी जो तुझे मेरे पास नहीं लती ,
    ये कैसी नफरत हैं तेरी जो तुझे मुझसे दूर नहीं ले जा पाती ||
    ना दरिया के इस पार है तू , ना दरिया के उस पार है तू ,
    ना दरिया के ऊपर , ना ही दरिया के नीचे है तू ||

    अब ना जाने क्यों तेरी आहट मुझे सुनाई नहीं देती ,
    बास तेरी ख़ामोशी की छीकें मुझे सोने नहीं देती ||
    अब तेरे आंसू मेरी कमीज़ को गीला नहीं करते ,
    अब तेरी नादानियाँ मेरी मुस्कुराहट की वजह नहीं बनतीं ||
    अब मैं अपनी दिक्कतें तुझसे बताया नहीं करता ,
    तू भी तो अपनी शिकायतें मुझे सुनाया नहीं करती ||

    देख अभी भी करता हूँ तुझसे वफा मैं ,
    लेकिन तेरी मोहब्बत से बहुत हूँ खफा मैं ||

    ©shaharshdwivedi