• ansakash 5w

    नज़र हैं नज़र की बात ना समझो
    मोहबत को तुम दर्द ना समझो

    इधर से मैं गुजरा जाने किधर से निकलुन्गा
    ये गज़ल हैं इसे तुम गीत ना समझो