• vision_creation_of_rsp 14w

    Sher

    खल्वत में टपक पड़ते हैं स्याही के बूँदें।
    और लिखने की मश्गला मेरे पोशीदा जुबान करते हैं।

    Khalwat main tapak parte hain shayahi ki bunde.
    Aur likhane ki mashghala mere posheeda zuban karte hain.

    ©vision_creation_of_rsp