• alpdev_2516 34w

    आने वाले कल में गर,
    मैं ना दिखी तो भी क्या!
    रब से सवाल ज़रूर कर लेना तुम,
    बिन मेरे वो भी कैसे अपना वजूद बचा पायेगा।।

    Read More

    औरत.4

    एक बेटी एक बहन एक संगिनि एक माँ,
    इन किरदारों की नज़ाकत,
    क्यों समझे ना कोई यहाँ?

    ना हो साया एक औरत का किसी आँगन में,
    ना हो अगर ममता की परछाई किसी आँगन में,
    देख पाओगे फ़िर कैसे आने वाले कल की सुबह?

    देखोगे ज़रूर अपने चश्म से वो कल आने वाला,
    मिटता हुआ इंसानो का ये सारा जहां।।
    फ़िर वो कमी बिन औरत के ज़रा बताओ,
    थमती सांसो से कर पाओगे बयां?
    ©alpdev_2516