• _that_brown_kavi_ 15w

    आज रेत सा फिसलते देखा मैंने लम्हा।।
    किसी और का हाथ थामा था आज उसने।

    मै आगे बढ़ता चला गया उम्मीद में की वो फिर मेरा होगा।।
    तुम्हारा भले ही हो
    ये लम्हा कभी मेरा भी होगा।।
    ©_that_brown_kavi_