• vrushabhtribhuwan 14w

    तेरा रूमाल

    सोचता हुँ ,
    कि खुदा से कहुँ कि...

    मुझे तेरे हाथ का रुमाल कर

    फिर जब जब तु रोये ,
    मुझे हलके से अपने गालों पर ईस्तमाल कर

    ©vrushabhtribhuwan