• priyanshu93 15w

    करने को तकरार तुझसे हर रोज अल्फ़ाज़ कुछ अलग लिखता हूँ
    दूर होने के अहसास को हर पल मे लिखता हूँ
    उन पलों की ख़ामोशी की खता तुझसे नही थी मुझको
    जितनी अब तेरे खामोश होने से है

    मेरी तड़प मेरे साथ जल्दी ही खत्म होंगी
    तहे दिल से उम्मीद है शायद उस पल को जानकर तो तेरी आँखें कुछ नम होंगी ।

    ©priyanshu93