• kavish_kumar 1w

    जो लिख रहा है, जिसके द्वारा लिखा जा रहा है..

    कुछ ना कुछ तारतम्यता जरूर है उस बात से,

    जिसे वो सरल भाषा में कहीं उजागर नहीं कर पाता..

    तथा कहे बिना भी रह नहीं पाता...

    तब कवित्व निकल कर आता है..

    ©Aatish ��