• devesh_upadhyay 6w

    @hindii आपका आभार इस अवसर के लिये, मैं यहाँ अपने मित्र नहीं, अपितु मेरी एक वर्ष के इस सफर में सदैव कुछ सिखलाने वाले तत्वों के बारे में लिख रहा हूँ । @monikakapur मैम, @smriti_mukht_iiha जी और @pamela_bhowmick जी आशा है आपको ये पसंद आयेगा ।

    मिराकी परिवार में मेरे बहुत अपने हैं, मैं सबको हृदय की अछूत गहराइयों से धन्यवाद देता हूं ।
    @writedilse परिवार से अलग एक दूसरा परिवार हो तुम सब ��������।
    @monika_kakodia जय हो जयपुर की रानी की ����।
    @feelingsbywords बहुत कुछ सीखा है आपसे निधि मैम ����।
    @mohini_uvaach और आपको देखकर तो हम मिराकी पे बड़े हुये हैं ����।
    @be_nidhi थोड़ा सा ज्यादा लिखाकर, यहाँ तेरी जरूरत है������।
    @shriradhey_apt आपके बारे में बोलने को कुछ नहीँ है मैम ������।
    ***********************************************************************
    साथ ही कुछ और बेहद प्रिय साथियों को मैं कमेंट बॉक्स में टैग करूँगा ।
    आप सब का हार्दिक आभार #du में 4000 पोस्ट्स होने वाली हैं ।
    आप भी अपनी रचनायें मुझ तक पहुंचाने हेतु अपनी पोस्ट्स में #du लिखें ।
    #du #wds #wfm #wds #hind_dosti #hindiwriters #pod #mirakee

    Read More

    पंचतत्व

    मैं अपनी इस मिराकी-काया के पंचतत्वों को वर्णित करने की एक सूक्ष्म कोशिश कर रहा हूँ ।

    अजर अमर प्रचण्ड अखण्ड अनल सी, जो है साहस की प्रतीक
    वो विशाल नयनी, न्यारी क्रीड़ा करनी है पामेला भौमिक।

    जो बरसावत है जन जन पे निज लेखन की बूंदें, है अथाह प्रेम से भरपूर
    जाकी लेखनी कभी न रुकती नदिया के नीर सी पावन हैं मोनिका कपूर ।

    साहित्य गगन को जो नाप है देतीं , हुंकार सी है बोलती
    सरस, सटीक, सफल, लिखने वाली वो है स्मृति ।

    इस भावहीन शब्दों की जर्जर काया में प्राणवायु सी हो तुम मेरी लेखनी ।

    मेरे आधारहीन अधरझूल में लटके भावों को
    एक सुंदर से परिवार की जमीन पे आश्रय दिया है तुमने मिराकी ।

    ©devesh_upadhyay