• snehilshanky 3w

    2 0 1 8

    दिन कोई भी आख़िरी या पहला नहीं होता ,
    ये तो इतिहास है , जो खुद को दोहरा रहा है ! ये हमपे है कि हम इसे अंजाम माने या आग़ाज़ !!


    ©snehilshanky