• damanvir 16w

    एक दफा

    कोई एक दफ़ा बोलता हम रुक लेते,
    इस बेचैनी को कुछ सुकुन देते,
    दर्द का एहसास तो रुहानी है,
    कोई सुनता तो हम अपनी रूह देते
    ©damanvir