• _darvesh 23w

    ईजहार

    बैठा जो मै दीदार करने उनका
    कि उठा दिया दीवार चिलमन का
    कुछ इकरार करना चाहता था
    कि नजर फेर कर इंकार उन्हो ने कर दिआ
    जो न सुनना चाहते थे
    वही सुना मैने दिया
    जहाँ न आग लगनी चाहिए थी
    हवन वही पर कर दिया
    जब उसकी आँखे बहने लगी
    पुनीत से शायद कुछ कहने लगी
    वही सुन-सुना के हम भी रोए वो भी रोई


    ©_darvesh