• durgeshkasaudhan 14w

    माँ

    मेरे लिए हे माँ मेरी तू बस शब्द नही एक भाषा है,
    मेरे जीवन की खुशियों का एक सरल परिभाषा है ।
    कई मुसीबत हल की मैंने जब भी तेरा साथ मिला,
    तेरा हाथ रहे इस सिर पे बस इतनी अभिलाषा है ।।

    - दुर्गेश कसौधन