• guptaanup586 13w

    कल रात की आंधी में मेरे गांव में कुछ शजर गिरा है , मगर अफ़सोस ना जाने कितने परिन्दों का घर गिरा है ।

    उड़ गया जिनका घर का छप्पर आंधी के कहर से ,
    उनसे ना पूछ लेना की रात कैसे गुजारी है ।