• shubhamwrites 14w

    मैंने कल शब चाहतों की सब किताबें फाड़ दीं
    सिर्फ़ इक काग़ज़ पे लिक्खा लफ़्ज़—ए—माँ रहने दिया !

    - Munnawar Rana