• akhileshyadav 15w

    मेरी ज़िंदगी में आंधी ऐसी आयी, तू क्या कम थी जो संग दामिनी लायी ,घनघोर बारिश में हम अनभिज्ञ रह गये, साथ देने वाले हमे तन्हा छोड़ गये, तेरी ज़िन्दगी में आगे जीने की खुशियां आई, मेरे मन में अब न जीने की ख्वाईश छाई।