• himanshupoet 12w

    " Kaun "

    Uth Kar Bazm Se Jaa Rahaa Hai Kaun
    Sach Se Nazren Yun Churaa Rahaa Hai Kaun

    Is Tarah Chup Hokar Sab Hain Baithe
    Phir Itnaa Shor Machaa Rahaa Hai Kaun

    Guzar Gayi Umra Unke Intezaar Me
    Phir Se Ummeed Dikhaa Rahaa Hai Kaun

    Ab Tak Tanhaa Hain Ham Muhabbat Me
    Is Tarah Ishq Nibhaa Rahaa Hai Kaun

    Apne Jawaab Dene Ko Taiyaar Hain Ham
    Pahle Se Bahaane Banaa Rahaa Hai Kaun

    Unke Asar Me Aaj Yoon Hue Ham
    Badan Se Jaan Liye Jaa Rahaa Hai Kaun

    Mahaz Mazaak Ban Gaye Afsaane
    Ab Ye Daastaan Sunaa Rahaa Hai Kaun

    Mere Haq Me Munaasib Nahin Ishq
    Mujhe Ye Baat Samjhaa Rahaa Hai Kaun

    Shagal Ye Bhi Dekh Lo Zamaane Ke
    Dekh Mera Dard Muskuraa Rahaa Hai Kaun

    Kah Rahaa Hoon Alvidaa Mehfil Se
    Ab Mere Saath Aa Rahaa Hai Kaun

    - Himanshu









    #kaun #who #urdupoetry #good #morning #goodmorning
    #khamosh #silent #angry #relations #shayari #shayar #sher #ghazal #gazal #kavita #poetry #poem #reality #hindi #urdu #poets #poet #writers #writer #love #pyar #ishq #mohabbat #india #indian #hindustan #hindustani #dil #heart #story #pod #mirakee #Himanshu

    Read More

    " कौन "

    उठ कर बज़्म से जा रहा है कौन
    सच से नज़रें यूँ चुरा रहा है कौन

    इस तरह चुप होकर सब हैं बैठे
    फिर इतना शोर मचा रहा है कौन

    गुज़र गयी उम्र उनके इंतज़ार में
    फिर से उम्मीद दिखा रहा है कौन

    अब तक तन्हा हैं हम मुहब्बत में
    इस तरह इश्क़ निभा रहा है कौन

    अपने जवाब देने को तैयार हैं हम
    पहले से बहाने बना रहा है कौन

    उनके असर में आज यूँ हुए हम
    बदन से जां लिये जा रहा है कौन

    महज़ मज़ाक बन गये अफसाने
    अब ये दास्ताँ सुना रहा है कौन

    मेरे हक़ में मुनासिब नहीं इश्क़
    मुझे ये बात समझा रहा है कौन

    शग़ल ये भी देख लो ज़माने के
    देख मेरा दर्द मुस्कुरा रहा है कौन

    कह रहा हूँ अलविदा महफ़िल से
    अब मेरे साथ आ रहा है कौन

    - हिमांशु
    ©poetishq