• me4usanju 5w

    मुक्तक

    मन के हारे हार है ,
    मन के जीते जीत है ,
    कुछ नया न कह रहा,
    ये पुरानी रीत है ,
    मन के हारे हार है ,
    मन के जीते ही जीत है,