• hindiurdu_saahitya 5w

    आपके सबके प्यार और स्नेह के लिए बहुत आभार।
    आज हमारी प्रस्तुति "तजुर्बा" शब्द पे है।
    इसीके साथ साथ, कई प्रशंसकों के आग्रह पे अब हम रचनाकर का भी नाम शामिल कर रहे हैं।
    आशा है आपको आज की जुगलबंदी पसन्द आएगी।
    #hunetwork

    Read More

    तजुर्बा

    तुमने बात की हमारे तजुर्बे की और
    हम उसे कोई बहता तराना समझे ।
    ©aatman_jain

    तजुर्बा ज़्यादा तो नहीं मुझे,
    पर इतना समझ गई हूं कि यहां​
    कोई किसी का अपना नहीं।
    ©Divakishore

    कुछ तो तज़ुर्बा भी सिखाता है ऐ दोस्त
    यूँ ही नहीं आदमी मतलबी बन जाता है!

    कुछ होते हैं मतलबी कुछ को वक़्त बना देता है,
    बात फ़ितरत की है दोस्त वरना कौन पनाह देता है।
    ©nikhilincredible


    तजुर्बों से आप क्या सीखते हो ये मायने रखता है,
    वरना मतलबी बनने के लिए तजुर्बों की जरूरत नहीं पड़ती!!


    लगता है सब अपने अपने तजुर्बे का इस्तेमाल
    कर रहे हैं दूसरों को नीचा दिखाने के लिए,
    सब अपने अपने विचार रख रहे हैं
    किसी मुसीबत से निपटने के लिए,
    मिल रहे हैं , झगड़ रहे हैं, किसी गैर के लिए।।
    ज़िंदगी बहुत कीमती है यारों इसे झगड़ने में व्यर्थ ना करो,
    तजुर्बा हर एक इंसान को बहुत
    कुछ सिखा देता है वक़्त आने पर।।
    विचार सबके अलग होते हैं,
    अपने विचार पर ध्यान दो,
    समय बरबाद ना करो किसी और के लिए।।
    ज़िंदगी में बहुत लोग मिलेंगे,
    अपना कहने वाले, तुम्हें बुरा कहने वाले,
    ध्यान दो उसपर जो जरूरी है तुम्हारे लिए।।
    अपना समय बरबाद ना करो,
    अपनों से लड़ने झगड़ने के लिए,
    तजुर्बों से सीख लेकर आगे बढ़ो,
    सिर्फ मुस्कान फैलाने के लिए।।
    © Smbhatia

    तज़ुर्बा हमारा कहता है पल हर पल,
    जिन्दगी आसान है, ना तुम इसे मुश्किल बनाओ,
    शान से जियो ओर दूसरों को भी सिखाओ।
    कुढ़ने में क्या मजा है, जिंदगी बस सज़ा है।
    ©Baanee

    सुंदर सजावट प्रतिभाशाली दुर्गा की , बेटा करो।
    हे रक्षक! पर प्रदान के लिए तजुर्बे से अज्ञानता का नाश करो।
    पहाड़ अमूल्य का नैतिक सदाचार से पूर्ण खुश हो
    योगी आज तुम कार्तिकेय या गणेश बन उज्जवल बनो।
    ©yogi_mishra


    दिलकश अंधेरों का तज़ुर्बा है, मेरे दोस्त,
    कि बिखर कर भी, आज तक मुकम्मल खड़ी हूँ !!
    ©Vandanabhardwaj

    प्रस्तुति : hindiurdu_saahitya