• _manii_ 12w

    आज याद आ रही है वो गोद जिसमे सर रख कर मैंने लोरियां सुनी है..
    वो राते.. जिसमे मैंने परियो के देश घूमे हैं..
    वो हर सुबह तुम्हारा मार से बचाना..
    बहनो से छुप कर तुम्हे अपने हाथों से खिलाना..
    दो पल भी न दिए तुमने तब... जब जरूरत सी मुझे तुम्हारी थी..
    देखो मैं आज भी अकेली हुँ और सब के पास "दादी" थी।

    ©_manii_