• kamalmahar 15w

    महफ़िल में तेरा नाम जो गूँजा;
    अश्कों को छुपाना मुश्क़िल सा हो गया।




    ©kamalmeena