• priyanshu93 5w

    तेरी जान

    बनकर के बरसात किसी दिन तेरी आँखों से बरस जाऊंगा
    न समझ इस कदर तुझको तनहा छोड़ जाऊंगा
    कुछ दूरियां दरमियान हैं तो क्या हुआ
    होगी जजुरत जहाँ तुझको मेरी वहां फांसले मैं मीलों के भी तय करके तुझसे मिलने आऊंगा
    न समझ इस तनहा की दुनिया की भीड़ मैं, मैं तुझे अकेला छोड जाऊंगा।

    ©priyanshu93