• vishwank_kasana 23w

    बाज़ार...

    दोपहर तक बिक गया बाज़ार का हर झूठ,

    और मैं अपनी दुकान में,
    एक सच लिए शाम तक बैठा रहा....


    ©vishwank_kasana