• vishal7911 3w

    "जख़्म खा कर! मुस्कुरा रहे हैं, हम,,
    जख़्म दे कर भी! ख़फा सा है, कोई।।

    Copy