• jatintomar 25w

    तू ही है जो ये दिल मुस्कुराता है
    पर तेरा ठुकराना मुझे आज भी सताता है
    ऐ खुदा चन्द मोहलत तो दी होती कुछ कहने की
    तेरा यूँ चले जाना मुझे आज भी रूलाता है