• aphthongs_ 5w

    तेरे जाने के बाद
    किसी ने तुझे चाँद को सौंपा
    किसी ने तुझे तारों में रखा

    एक मैंने ही तुझे
    बारिशों के हवाले रखा

    बेशक रोज़ मुलाकात ना हुई हो हमारी
    लेकिन जब भी बरसे बादल,
    मैंने रात भर खुद को, छत पर गीले रखा।


    aphthongs_