• bhawanasingh45 5w

    ज़िन्दगी की नुमाइश में जीना भुल गए हम
    औरों के जैसा बनने में खुद को भुल गए हम
    खुशियों की ख्वाहिश में ज़िन्दगी जीना भुल गए हम
    तरक्की की ख्वाहिश में खुद से मिलना भुल गए हम
    ज़िन्दगी की नुमाइश में जीना भुल गए हम
    खुद को ऊंचा उठाने में कही नीचे दब गए हम
    अपनी खुशी दिखाने में झूठा हसना सीख गए हम
    ज़िन्दगी की नुमाइश में जीना भुल गए हम
    ©bhawanasingh45