• ripudamanjhapinaki 37w

    ज़िंदगी फिर से उलझने लगी है
    बात सारी फिर बिगड़ने लगी है
    हलचलों का दौर थमता ही नहीं
    वक्त की रफ्तार फिर थमने लगी है
    अपने अब अपने से लगते ही नहीं
    दिल में सबके दूरियां पलने लगी है
    बात अच्छी ही नहीं लगती कोई
    बातें सबकी सबको चुभने लगी है
    अपनी दुनिया है,है अपनी ज़िंदगी
    रिश्तों की कीमत बदलने लगी है
    अपना होकर भी नहीं अपना कोई
    बस जरूरत के लिए ढलने लगी है
    खो गए रिश्ते मिटा सब अपनापन
    सारे रिश्ते पैसों पर चलने लगी है।
    "पिनाकी"

    Read More

    रिश्तों की कीमत

    ज़िंदगी फिर से उलझने लगी है
    बात सारी फिर बिगड़ने लगी है
    हलचलों का दौर थमता ही नहीं
    वक्त की रफ्तार फिर थमने लगी है
    अपने अब अपने से लगते ही नहीं
    दिल में सबके दूरियां पलने लगी है
    बात अच्छी ही नहीं लगती कोई
    बातें सबकी सबको चुभने लगी है
    अपनी दुनिया है,है अपनी ज़िंदगी
    रिश्तों की कीमत बदलने लगी है
    अपना होकर भी नहीं अपना कोई
    बस जरूरत के लिए ढलने लगी है
    खो गए रिश्ते मिटा सब अपनापन
    सारे रिश्ते पैसों पर चलने लगी है।
    "पिनाकी"
    ©ripudamanjhapinaki