• hiraethwritings 38w

    जहाँ हम गुनाह करते हैं
    वहीं रोकते नहीं हो तुम।
    शायद अपने इबादतखाने में बुलाने का,
    ये भी एक जरिया हो तुम्हारा।


    ©talesoftwenties