• rashmi_dwivedi 14w

    #breaking_stereotype or breaking urself ����
    #ur_choice
    #being_a_girl_takes_alot ����
    #ego_crash ��

    Read More

    साहब, यहाँ ख्वाब देखने की सख़्त मनाही है।
    की जो गर गुस्ताख़ी, तो होगी कड़ी कार्यवाही है।
    कहने को हम तो बड़े आज़ाद ख़याली है ,
    मगर तू तो औरत है,
    तूने बेड़ियाँ तोड़ने की जुर्रत कैसे दिखाई है।
    माना ये वक़्त निगाहपरस्त है, सख्त है और आशनाई है।
    ये जो दरारें सी है न तेरे जिस्म और रूह पे,
    ये तूने आका के आगे सिर उठाने की
    बड़ी वाजिब सज़ा पायी है।

    ©rashmi_dwivedi