• bayan_e_dastan 6w

    एक ख़्वाब को जीने के लिये सारे ख़्वाबों को जला दिया मैंने,
    कहीं उसे भूल न जाऊं इसलिये सारी दुनिया भुला दिया मैंने।।


    ©bayan_e_dastan