• sarangholay 37w

    प्यार के जुनून से धधकते हुए इस दिल को लेकर, जब पोहोंचा मैं रिश्तों के बाजार में। तब जाना, जरूरतें ख्वाहिशो से अक्सर सस्ती बिक रही थी ।


    ©sarangholay