• viratthinktank 5w

    =•सिर्फ तुम•=

    तुम ठहरो इस पानी में

    मैं दरिया रोज बन के आता हूं,

    तुम मुझे देखती हो..
    मैं तुम्हें देखता हूं..

    तेरे उन अहसासों को,

    समुंदर में ताज़ा करने आता हूं।

    ©viratthinktank