• mermaid_writes 5w

    ज़िन्दगी साजिश करने से बाज़ नही आती,
    और दूसरी तरफ इश्क की ख्वाहिश खत्म नही होती । - हीर

    @hindiwriters @hindikavyasangam

    Read More

    गुलाब की चाहतो में कांटे कबूल किये है,
    अब कैसे बताऊ की आंसुओ के नमक में इश्क की ख्वाहिश थी ।

    सावन के झूले के ख्वाबो के बदले पतझड़ देखे है,
    अब कैसे बताऊ की ख्वाबों की तकदीर में ज़िन्दगी की साजिश थी ।

    -हीरांशी मिश्र

    ©mermaid_writes