• anonymous_rishi 14w

    तेरी फिक्र, तेरा जिक्र अब नहीं होता।
    बन गया है जो पत्थर, ये दिल अब नहीं रोता।।

    बाहों मे तेरे चैन आता था.. दिल को बस तू ही तो भाता था।
    रात भर याद मे तेरी, ये दिल अब नहीं खोता।।

    ©Anonymous_Rishi