• khusi_the_happiness 24w

    तुम बिन

    न तुम रुठे थे, न मैं थी खफा
    न तुम खोये थे, न मैं हुई जुदा
    न तुम ने वफ़ा छोड़ी, न मैंने की बेवफाई

    ये तो बस वक़्त की थी चतुराई
    उस ने मुझे तुम्हारी
    आईने सी शख्शियत दिखाई
    चेहरों के बदलते ही
    तुम्हारी बदलती मुस्कुराहटें दिखाई
    उस रात के गुजरने के बाद
    गुजरे थे ऐतबार मुझ में भी कई

    वक़्त ने किया एक अहसान हम पर
    घड़ी की टिक टिक ने
    रोके लिया हमें वहीं पर
    दो पलों की खामोशी के बीच कहीं
    फिर दिखाई एक तस्वीर नई
    जिस के लिए हम बदल रहे थे रंग अपना
    वो बदल गया पल भर की हमारी गैरमौजूदगी में


    यूँ ही बेवजह बड़े अरसे से,
    रंग रहे थे हम लिहाफ उनका
    न जाने क्यों रातों से सुबह तक
    कर रहे थे इंतेज़ार उनका
    उन की तो महफ़िल ही अलग थी
    रगों की भी पसंद ही नकली थी
    हम यूँ ही इंद्रधनुष से
    बटोर रहे थे रंग उनके लिए

    खैर ,वक़्त की खामोशी में
    दिल की आवाज सुनाई दी उनकी
    जिस में पुकार थी सारे जहां के लिए
    पर नाम हमारा खुसफुसाहटों ने भी न सुना

    हर बात पे शिकायत करते थे खुद से
    पर हमारी गैरमौजूदगी पे
    एक सवाल न उठा उन के दिल से
    हर लम्हे पे एक कमी जताते थे जिंदगी से
    पर हमारा पता दिवारों से भी न पूछा उन ने

    बस फिर, इसी ग़ैर ज़रूरी अस्तित्व को
    तुम्हारे कैनवस से मिटा दिया हम ने
    जिस दीवार के पीछे खुश थे तुम
    उस दीवार को खामोशी से
    और ऊंचा चुनवा दिया हम ने
    हमें पता है तुम यही हो
    पर तुम से अपना सब कुछ
    छुपा लिया हम ने

    न बेवफाई है इस में कोई ,
    न ही है कोई नाराज़गी तुझ से,
    ये तो बस अदा है हमारी
    तुझ से बेइंतेहा प्यार करने की
    तेरी हर रजा को बंद आखों से
    बिन सवाल, तामील करने की

    तुम्हें इल्म भी कहाँ होगा
    जिस मन्ज़र पे छोड़ा है तुम्हें
    वही रुक गए हैं हम
    इस नादान दिल की ज़िद से
    हर बार झुक गए हैं हम

    अब भी दीवार से कान लगाए
    तेरी महफ़िलों में अपने ज़ीक्र का
    इंतेज़ार करता है वो नादान
    खामोशी से तेरे पास होने के
    झूठे एहसासों के अनेकों मोती
    चुन -चुन के हर रात पिरोता है ये मन

    ये मासूम सा तेरे इंतेज़ार में बैठा दिल
    आज भी बस इतना कहता है
    न कोई बेवफाई की तू ने
    न ही वफ़ा छोड़ी हम ने
    ये तो बस करवट ले ली वक्त ने।

    ©khusi_the_happiness
    28 february 2018