• hindiurduwriters 3w

    उसे ख़बर भी नहीं इस क़दर तअल्लुक़ की

    वो धूप में है,पसीने में हम नहाते है

    ©मंसूर हाशमी

    hindiUrduWriters