• ek_kosish 5w

    This lines inspired by Yashika's poem,thank you
    @_yashika_bhardwaj_

    Read More

    अब मनाही है ख़्वाब मैं आने की भी,
    अरे उन्हें कोई समझाए इस शायर बेनक़ाब का कोई नक़ाब ही नहीं है।।
    -एक कोशिश


    ©ek_kosish